श्रेष्ठ क्या है ?

107

श्रेष्ठ क्या है ?

पांच सौ भिक्षुओं की कथा

      जेतवन का बौद्ध विहार, सांय काल की बेला थी | सूर्य देवता अस्त हो चुके थे | रात अपनी काली चादर ओढ़कर उतरने लगी थी और उधर तारे भी आकाश में टीमटीमाने लगे थे | ठंडी-ठंडी हवा मंद-मंद बह रही थी | विहार में पूर्णत: निरसता थी | शास्ता विहार में भिक्षुओं के साथ विराजमान थे | कुछ भिक्षु थोड़े समय पहले चारिका से लौटे थे तथा आसनशाला में बैठकर विश्राम कर रहें थे | साथ ही साथ आपस में कुछ इधर-उधर, कुछ घर की चर्चा भी कर रहें थे |

108

109

Leave a Comment