माता, पिता और राजा-दास को कैसे मारे ?

माता, पिता और राजा-दास को कैसे मारे ? लकुटंक भद्दीय की कथा शाक्य मुनि जेतवन में विहरते थे | बहुत सारे आगन्तुक भिक्षु वहा पधारे | उन्हें सादर प्रणाम किया और एक ओर बैठ गए | उसी समय लकुटंक भद्दीय स्थविर नामक एक थेर शास्ता से बिदा ले थोड़ी दूर जा रहें थे | लकुटंक … Read more