मौन रखने मात्र से कोई मुनि नहीं हो जाता

मौन रखने मात्र से कोई मुनि नहीं हो जाता तिर्थिको की कथा यह धर्म देशना बुद्ध ने जेतवन में किसी अन्य सम्प्रदाय के साधुओ के सम्बन्ध में कही थी | कथा है कि जब भी तीर्थिक किसी गृहस्थ के घर पर भोजन करते तो फिर उस गृहस्थ को भोजनोपरान्त आशीर्वाद देते हुए कहते थे, “तुम्हारे … Read more